Skip to content
Home » भारत में कितने प्रकार के शहर हैं | Bharat me Kitne Prakar ke Shahar Hain

भारत में कितने प्रकार के शहर हैं | Bharat me Kitne Prakar ke Shahar Hain

    भारत में कितने प्रकार के शहर हैं (Bharat me Kitne Prakar ke Shahar Hain) : क्या आपने कभी सोचा है कि शहर कितने प्रकार के होते हैं। अगर नही तो यहाँ पर हम आपको शहर किसे कहते हैं और भारत में कितने प्रकार के शहर हैं की पूरी जानकारी देने वाले हैं। शहरों के प्रकार जानने के लिए इस पोस्ट को पूरा पढ़ें।

    भारत में कितने प्रकार के शहर हैं, Bharat me Kitne Prakar ke Shahar Hain
    भारत में कितने प्रकार के शहर हैं

    भारत में कितने प्रकार के शहर हैं | Bharat me Kitne Prakar ke Shahar Hain

    भारत में शहर के प्रकार की बात की जाएँ तो यहाँ शहरों को चार प्रकारों में बाँटा गया है, जो निम्न हैं:

    • साधारण टाउन
    • क्लास वन टाउन
    • मिलियन प्लस टाउन
    • मेगा सिटी

    साधारण टाउन

    ऐसे शहर जिनकी आबादी 20 हजार से लेकर 1 लाख के बीच होती हैं, उनको साधारण टाउन कहा जाता है। देश में साधारण टाउन की कुल संख्या 3,587 है।

    क्लास वन टाउन

    ऐसे शहर जिनकी आबादी 1 लाख से 10 लाख के बीच होती है, उन्हें क्लास वन टाउन कहा जाता है। देश में क्लास वन टाउन की संख्या 468 है। भारत के 468 क्लास वन टाउन में कुल 26 करोड़ 49 लाख लोग रहते हैं।

    मिलियन प्लस टाउन

    ऐसे शहर जिनकी आबादी 10 लाख से 1 करोड़ के बीच हो, उन्हें मिलियन प्लस टाउन कहा जाता है। देश में मिलियन प्लस टाउन की कुल संख्या केवल 53 है। इनमें कुल 16 करोड़ 7 लाख लोग रहते हैं।

    मेगा सिटी

    ऐसे शहर जिनकी आबादी 1 करोड़ से अधिक हो, उनको मेगा सिटी कहा जाता है। भारत में सिर्फ़ 3 मेगा सिटी है। ये हैं मुंबई, दिल्ली और कोलकाता।

    शहर किसे कहते हैं (शहर की परिभाषा)

    भारत में ऐसे टाउन जिनमें म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन, कैंटोनमेंट बोर्ड या नोटिफाइड टाउन एरिया कमिटी हो, जिनकी जनसंख्या कम से कम 20 हजार हो और कुल आबादी के 75% फीसदी लोग गैर कृषि कार्यों में लगे हों। साथ ही जहां आबादी का घनत्व 400 प्रति स्क्वॉयर किलो मीटर हो, उन्हें शहर कहा जाता है।

    2011 की जनगणना के अनुसार कितने शहर बनें थे

    2011 की जनगणना रिपोर्ट के अनुसार तब पूरे देश में सबसे तेजी से शहरों की संख्या बढ़ी थी यानी शहरीकरण बहुत ही तीव्र गति से हुआ था। उस समय देश में गांव से अधिक नए शहर बसे थे। कुल 2400 नये शहर और कस्बे बने।

    2011 की जनगणना कुल 43 करोड़ लोग देश के उन शहरों में पलायन कर गए जहां की आबादी एक लाख से एक करोड़ के बीच है। इन शहरों की आबादी 39 फीसदी की दर से बढ़ी थी।

    निष्कर्ष

    इस पोस्ट में हमने भारत में कितने प्रकार के शहर हैं (Bharat me Kitne Prakar ke Shahar Hain), शहर किसे कहते हैं, शहर की परिभाषा (Shahar Ki Paribhasha) के बारे में बताया है। आशा करते हैं, कि आपको यह जानकारी पसंद आएगी। इसे सोशल मीडिया में ज़रूर शेयर करें।