छोड़कर सामग्री पर जाएँ

भैंस का वैज्ञानिक नाम और वर्गीकरण हिंदी में : (Buffalo Scientific Name and Classification in Hindi)

    Buffalo Scientific Name and Classification in Hindi : बहुत सारे लोग जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं वो Buffalo Ka Vaigyanik Naam Kya Hai या Buffalo Ka Scientific Name in Hindi देखना चाहते हैं और जानना चाहते हैं कि भैंस का वैज्ञानिक नाम क्या है हिंदी में?

    इस आर्टिकल में हमने भैंस (Buffalo) का वैज्ञानिक नाम (Scientific Name & Binomial Name) के साथ ही भैंस का वर्गीकरण (Buffalo Classification in Hindi) और इस पालतू जानवर की पूरी जानकारी देने की कोशिश की है, जो आपके काम आएगी.

    भैंस का वैज्ञानिक नाम (Buffalo Scientific Name in Hindi)

    भैंस एक पालतू जानवर है, जिसे मुख्यतः दूध के उद्देश्य से पाला जाता है। द्विनाम पद्धति (Binomial System) में भैंस का वैज्ञानिक नाम बुबालस बुबेलिस (Bubalus Bubilis) होता है। जहाँ बुबालस (Bubalus) वंश का नाम तथा बुबेलिस (Bubilis) जाति का नाम होता है।

    प्रचलित नाम (हिंदी + English)वैज्ञानिक नाम (Scientific Name)
    भैंस (Buffalo)Bubalus bubalis
    BhainsBubalus bubalis
    भारतीय भैंस (Indian Buffalo)Bubalus bubalis
    अफ्रीकन भैंस (African Buffalo)Syncerus caffer

    आप लोगों की जानकारी के लिए ऊपर दी गई तालिका में निम्न टॉपिक की जानकारी दी गई है :-

    • भारतीय भैंस का वैज्ञानिक नाम क्या है (Indian Buffalo Ka Vaigyanik Naam).
    • अफ्रीकन भैंस का वैज्ञानिक नाम क्या है (African Buffalo Ke Vaigyanik Naam).
    • भैंस का वैज्ञानिक नाम क्या है?भैंस का वैज्ञानिक नाम ‘Bubalus bubalis’ है
    • What is the Scientific Name of Buffalo? – The scientific name of Buffalo is ‘Bubalus bubalis’.

    भैंस का वर्गीकरण हिंदी में (Buffalo Classification in Hindi)

    Scientific Classification of Buffalo in Hindi (भैंस का वर्गीकरण) नीचे तालिका में दिया गया है.

    Kingdom (जगत)Animalia
    Order (गण)Artiodactyla
    Family (कुल)Bovidae
    Subfamily (उपकुल)Bovinae
    Genus (वंश)Bubalus(Hodgson, 1847)
    Class (वर्ग)Mammalia
    Phylum (संघ)Chordata
    SpeciesB. bubalis, S. caffer
    SubspeciesS. c. caffer,
    S. c. nanus,
    S. c. brachyceros,
    S. c. mathewsi
    Binomial nameSyncerus caffer(Sparrman, 1779)

    भैंस का कुल नाम क्या है (Family Name of Buffalo in Hindi)

    भैंस (Buffalo) बोविडे (Bovidae) फ़ैमिली से संबंधित हैं, जिसमें खुर वाले स्तनधारियों की 100 से अधिक प्रजातियां शामिल हैं, जिन्हें ungulate कहा जाता है। Bovidae फ़ैमिली में भैंस, बाइसन, मृग, गज़ेल्स, मवेशी, भेड़ और बकरियों जैसे 100 से अधिक प्रजातियां शामिल की गई हैं।

    प्रचलित (हिंदी + English)कुल का नाम (Family Name)
    भैंस (Buffalo)Bovidae
    BhainsBovidae
    भारतीय भैंस (Indian Buffalo)Bovidae
    अफ्रीकन भैंस (African Buffalo)Bovidae

    आप लोगों की जानकारी के लिए ऊपर दी गई तालिका में निम्न टॉपिक की जानकारी दी गई है :-

    • भैंस का कुल नाम क्या है?भैंस का कुल नाम ‘Bovidae‘ है
    • What is the Family Name of Buffalo? – The Family name of Buffalo is ‘Bovidae‘.
    • भैंस किस कुल का जानवर है? – भैंस ‘Bovidae’ कुल का जानवर है।
    • भैंस का फैमिली नाम क्या है? – भैंस का फैमिली नाम ‘Bovidae (केनिडे)’ है।
    • भारतीय भैंस का कुल नाम क्या है (Family Name of Indian Buffalo in Hindi).
    • अफ्रीकन भैंस का कुल नाम क्या है (African Buffalo Family Name).

    संक्षिप्त जानकारी (भैंस का वैज्ञानिक नाम हिंदी में)

    जलीय भैंस, बुबलस बुबलिस, बोविडे फ़ैमिली  से संबंधित है। जलीय भैंस मुख्यरूप से भारतीय उपमहाद्वीप, चीन, दक्षिण पूर्व एशिया, ऑस्ट्रेलिया, यूरोप, उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका में पाई जाती हैं। जीव-विज्ञानियों ने जलीय भैंस को दो उप-प्रजातियों में वर्गीकृत किया है, जिनके नाम हैं –

    • नदी भैंस (River buffalo)
    • दलदल भैंस (Swamp buffalo)
    संबंधित जानकारी :  इंसान का वैज्ञानिक नाम क्या है और इंसान का वर्गीकरण | Insan Ka Vaigyanik Naam Kya Hai और Insan Ka Vargikaran

    आज के समय में जलीय भैंस एक पालतू प्रजाति है और इनकी उत्पत्ति सिंधु घाटी सभ्यता और मेसोपोटामिया के समय में देखी गई थी। उस समय इनका उपयोग व्यापार के लिए किया जाता था। जलीय भैंस कृषि के लिए बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती हैं, इनका उपयोग खेतों की जुताई के लिए किया जाता है।

    जल भैंस का सबसे संभावित पूर्वज (ancestor) जंगली जल भैंस (बुबलस अर्नी – Bubalus arnee) है। हालाँकि जंगली जलीय भैंस (wild water buffalo) अब एक लुप्तप्राय प्रजाति मानी जाती है।

    भैंस की जानकारी हिंदी में (Buffalo Information in Hindi – Hindi Wikipedia)

    भारत में Buffalo को हिंदी में सामन्य रूप से भैंस के नाम से जाता है यह बोविडे परिवार (Bovidae Family) के कुछ मवेशियों के लिए सामान्य नाम है।

    भैंस खुर वाले स्तनधारी (hoofed mammals) हैं। इस घरेलू मवेशी का पाचन तंत्र जटिल होता है, जो इन्हें घास, पत्तियों और अन्य निम्न-श्रेणी के पौधों की सामग्री के आहार का सेवन करने और उसको पचाने की शक्ति देता है। ये अपने भोजन के सेल्युलोज को तोड़ने के लिए सहजीवी सूक्ष्मजीवों का उपयोग करते हैं। साथ ही भोजन को पचाने के जुगाली करना इनकी सामन्य आदत है।

    इसके साथ ही Buffalo रोगाणुओं के लिए आश्रय और भोजन प्रदान करते हैं। सभी भैंस घरेलू मवेशियों (domestic cattle), बोस टौरस (Bos taurus) के साथ उपपरिवार (subfamily) बोविना (Bovinae) से संबंधित होते हैं।

    पालतू भैंस मनुष्यों को बहुत मूल्य प्रदान करती है। यह एक प्रकार की एशियाई भैंस होती हैं। ये मुख्य रूप से गाड़ियां खींचना, चावल के खेतों को तैयार करने के लिए हल खींचना और दूध, मांस और चमड़ा, और ऑर्गैनिक उर्वरक प्रदान करती हैं। भारत में गाय या दूसरे मवेशियों की तुलना में भैंस से अधिक दूध का उत्पादन होता है।

    अफ्रीकी भैंस को अभी पालतू नहीं बनाया गया है इसलिए ये मनुष्यों के लिए खतरनाक होती हैं और किसी को भी नुक़सान पहुँचा सकती हैं। एशियाई भैंसों को जिन्हें सामान्य रूप से जल भैंस (water buffalo) भी कहा जाता है ये बहुत ही विनम्र स्वभाव की होती हैं और अपने इंसानी मालिकों के साथ एक रिश्ता बना बनाकर रहती हैं। इसी वजह से इन्हें ज़्यादातर देशों में दूध के लिए पाला जाता है।

    Asian buffalo (एशियाई भैंस)

    एशियाई भैंस (Asian buffalo) बुबलस (Bubalus) जाति के सदस्य हैं। ये निम्न होते हैं :-

    • Subgenus Bubalus (सबजेनस बुबलस)
      • Water Buffalo (जलीय भैंस), Bubalus bubalus (बुबलस बुबलुस)
      • Tamaraw (तमराव), Bubalus mindorensis (बुबलस माइंडोरेंसिस)
    • Subgenus Anoa (सबजेनस एनोआ)
      • Lowland Anoa (तराई अनोआ), Bubalus depressicornis (बुबलस डिप्रेसिकोर्निस)
      • Mountain Anoa (माउंटेन अनोआ), Bubalus quarlesi (बुबलस क्वार्लेसिक)

    Asian buffalo (एशियाई भैंस) की विस्तार से जानकारी नीचे दी गई है।

    Water Buffalo (जलीय भैंस)

    पानी की भैंस को कभी-कभी अरनी (Arni), बुबलस बुलबालिस (Bubalus bulbalis) कहा जाता है। यह अफ्रीकी भैंस से कुछ बड़ी होती है। एक वयस्क नर भैंसा आमतौर पर कंधे पर 1.5 से 1.9 मीटर (5 से 6.25 फीट) लंबा होता है और इसका वजन 700 से 1200 किलोग्राम होता है। जबकि मादा भैंस थोड़ी छोटी होती हैं।

    इनकी सींगों का फैलाव किसी भी जीवित मवेशी से सबसे बड़ा है। वे विरल बालों से ढके होते हैं और हल्के भूरे से काले रंग के होते हैं। इनकी त्वचा बहुत मोटी होती है, जो इन्हें कीड़ों और कांटों से बचाने में मदद करती है। ये भैंस भारत और दक्षिण पूर्व एशियाई क्षेत्र की मूल भैंस मानी जाती हैं और ये काफ़ी मिलनसार होती हैं इसी वजह से इनको पालतू बनाया जाता है।

    Water Buffalo
    Water Buffalo

    ये भैंस मीठे पानी के पास रहना पसंद करते हैं और ज्यादातर दलदली भूमि और नदियों के किनारे रहती हैं। ये अच्छे तैराक होते हैं और अपना अधिकांश समय पानी में बिताना पसंद करते हैं, जो इन्हें ठंडा रखने है के साथ काटने वाले कीड़ों से बचाता है। ये तैरते समय पानी के पौधों को चर सकते हैं साथ ही खाने के लिए पानी के भीतर गोता भी लगा सकते हैं। उनके पैर बड़े होते हैं और पैर की उंगलियां इन्हें दलदली मिट्टी में बेहतर पैर जमाने में मदद करती हैं।

    अब ये भैंस बहुत दुर्लभ हैं। ऐसा माना जाता है कि इनकी संखाय 4,000 से कम बची है साथ ही लगातार घट रही है। कुछ समस्याएं अवैध शिकार, आवास का नुकसान और बीमारियों इनकी घटती संख्या का मुख्य कारण है साथ ही पालतू भैंसों के साथ अंतःप्रजनन भी एक कारण माना गया है।

    संबंधित जानकारी :  लोमड़ी का वैज्ञानिक वर्गीकरण : Fox Classification in Hindi

    इस भैंस को सबसे पहले कम से कम 6,000 साल पहले दक्षिण पूर्व एशिया में पालतू बनाया गया था।

    Water Buffalo Classification in Hindi (Scientific)

    Scientific Name of Water Buffalo in Hindi – जलीय भैंस का वैज्ञानिक नाम ‘Bubalus bulbalis’ है। इनका नामकरण 1792 में Kerr द्वारा किया गया था।

    Common Name (English)Water Buffalo
    सामान्य प्रचलित नाम (हिंदी)जलीय भैंस
    Scientific Name (वैज्ञानिक नाम)Bubalus bulbalis
    Binomial Name of Water BuffaloBubalus bulbalis(Kerr, 1792)

    Classification of Water Buffalo in Hindi (जलीय भैंस का वर्गीकरण) निम्न है :-

    KingdomAnimalia
    PhylumChordata
    ClassMammalia
    OrderArtiodactyla
    FamilyBovidae
    SubfamilyBovinae
    GenusBubalus
    SpeciesB. bulbalis

    Tamaraw Buffalo (तमराव भैंस)

    यह फिलीपींस में मिंडोरो द्वीप का मूल निवासी भैंस है। हालांकि, ऐसा माना जाता है कि यह एक बार लूजोन के बड़े द्वीप पर भी पनपा था।

    इमली मूल रूप से पूरे मिंडोरो में, समुद्र तल से लेकर पहाड़ों तक पाई जाती थी, लेकिन मानव निवास, शिकार के कारण, यह अब केवल कुछ दूरस्थ घास के मैदानों तक ही सीमित है और अब एक लुप्तप्राय प्रजाति है। 2000 में, इसकी जनसंख्या 200 से कम होने का अनुमान लगाया गया था।

    यह अन्य भैंसों की तुलना में छोटी होती है, कंधे पर लगभग एक मीटर (3 फीट) लंबी होती है और इसका वजन 200 से 300 किलोग्राम होता है। इनके बाल Water Buffalo (जल भैंस) से ज्यादा होते हैं और इनका रंग गहरा भूरा से भूरा-काला होता है। उनके सींग पीछे की ओर झुके होते हैं और लगभग 35 से 45 सेमी लंबे होते हैं। वे झुंड के बजाय माताओं और बच्चों के अपवाद के साथ अकेले रहते हैं। ये आक्रामक हो होते हैं और मनुष्यों पर हमला करने के लिए जाने जाते हैं।

    Anoa Buffalo (एनोआ भैंस)

    एनोआ की दो प्रजातियां हैं :- पर्वतीय एनोआ (Bubalus quarlesi) और निचली भूमि की एनोआ (Bubalus depressicornis)। दोनों अबाधित जंगल में रहते हैं, और दिखने में एक हिरण के समान होते हैं, जिनका वजन 150 से 300 किलोग्राम होता है। इनके छोटे आकार के कारण, उन्हें कभी-कभी पिग्मी भैंस (pygmy buffalo) या लघु जल भैंस (miniature water buffalo) कहा जाता है।

    दोनों इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप पर पाए जाते हैं। पर्वतीय एनोआ पास के बुटुंग द्वीप पर भी पाई जाता है। ये झुंड के बजाय अकेले या जोड़े में रहते हैं, सिवाय इसके कि जब मादाएं जन्म देने वाली हों। ये प्रति वर्ष केवल एक बच्चे को जन्म देती हैं।

    एनोआ की दोनों प्रजातियों को 1960 के दशक से लुप्तप्राय के रूप में वर्गीकृत किया गया था और इनकी जनसंख्या में कमी लगातार जारी है। ऐसा माना जाता है कि इन दोनों प्रजाति के 5,000 से अधिक जानवर शेष नहीं हैं। एनोआ की गिरावट के कारणों में लोगों द्वारा सींग और मांस के लिए शिकार करना शामिल है, इसके अलावा आवास की कमी भी इनकी कमी का कारण है।

    African Buffalo (अफ्रीकी भैंस)

    African Buffalo (अफ्रीकी भैंस) को केप भैंस (Cape buffalo या Syncerus caffer) के नाम से भी जाना जाता है। यह एक बड़ा जानवर है, कंधे पर 1 से 1.7 मीटर (3 से 5.5 फीट) ऊंचा, 2 से 3 मीटर (7 से 10 फीट) लंबा होता है।

    इसका वजन लगभग 500 से 1000 किलोग्राम होता है। नर मादाओं की तुलना में कुछ बड़े होते हैं। नर और मादा दोनों के बड़े सींग होते हैं। नवजात अफ्रीकी भैंस घने लाल बालों से ढके होते हैं, जो उम्र के साथ विरल और गहरे रंग के हो जाते हैं। इसी वजह से परिपक्व अफ्रीकी भैंस गहरे भूरे या काले हो जाते हैं।

    अफ्रीकी भैंस सहारा रेगिस्तान के दक्षिण में अफ्रीका के अधिकांश हिस्सों में खुले सवाना (कुछ पेड़ों के साथ घास के मैदान) से लेकर घने जंगलों में पाए जाते हैं। जंगलों में रहने वाले लोग सवाना में रहने वालों की तुलना में छोटे होते हैं। अफ्रीकी भैंस पाए जाने वाले कुछ देशों के नाम हैं – इथियोपिया, सोमालिया, ज़ाम्बिया, ज़िम्बाब्वे, नामीबिया, बोत्सवाना, मोज़ाम्बिक, दक्षिण अफ्रीका, केन्या और तंजानिया।

    African Buffalo
    African Buffalo

    अफ्रीकी भैंस की सबसे ख़ास बात – ये झुंड में रहती हैं, हालांकि कुछ बड़े नर अकेले रहते हैं। जंगल में रहने वाले भैंसों के झुंड में आमतौर पर लगभग एक दर्जन मवेशी शामिल होते हैं। जबकि सवाना में झुंड ज्यादातर 50 से 500 की संख्या में होते हैं। कुछ जगहों पर जहां अच्छे घास के मैदान हैं वहाँ पर 2,000 या 3,000 तक की संख्या वाले समूह भी पाए जाते हैं।

    संबंधित जानकारी :  Genda ka Common Name : गेंदा के सामान्य प्रचलित नाम

    अफ्रीकी भैंस बहुत ही खतरनाक और दुर्जेय लड़ाके होते हैं। नर और मादा दोनों अपने सींगों और खुरों का उपयोग करके शेरों और अन्य शिकारियों पर हमला करके उन्हें मार देते हैं।

    हालांकि अतीत में अफ्रीकी भैंसों की आबादी लाखों में थी लेकिन अब यह लगभग 9,00,000 है। अब इनकी ज्यादातर आबादी पूर्वी अफ्रीका के सवाना में मिलती है। इनकी संख्या में इस गिरावट का कारण भोजन और खेल दोनों के लिए इनका शिकार करना हैं। इसके अलावा इनके आवास का कृषि भूमि और पशु चारागाह में परिवर्तन, सूखा और विदेशी कीटों और रोगों की शुरूआत मुख्य कारण हैं। अफ्रीकी भैंस को कभी भी सफलतापूर्वक पालतू नहीं बनाया गया है।

    African Buffalo Classification in Hindi (Scientific)

    Scientific Name of African Buffalo in Hindi – अफ्रीकी भैंस का वैज्ञानिक नाम ‘Syncerus caffer’ है। इनका नामकरण 1779 में Sparrman द्वारा किया गया था।

    Common Name (English)African Buffalo
    सामान्य प्रचलित नाम (हिंदी)अफ्रीकी भैंस
    Scientific Name (वैज्ञानिक नाम)Syncerus caffer
    Binomial Name of African BuffaloSyncerus caffer(Sparrman, 1779)

    Classification of African Buffalo in Hindi (अफ्रीकी भैंस का वर्गीकरण) निम्न है :-

    KingdomAnimalia
    PhylumChordata
    ClassMammalia
    OrderArtiodactyla
    FamilyBovidae
    GenusSyncerusby – Hodgson, 1847
    SpeciesS. caffer
    SubspeciesS. c. caffer,
    S. c. nanus,
    S. c. brachyceros,
    S. c. mathewsi

    भारत में भैंसों की प्रमुख नस्लें

    • मुर्रा
    • मेहसाना
    • भदावरी
    • सुरती
    • जाफराबादी
    • सांभलपुरी
    • तराई
    • साथकनारा
    • गोदावरी
    • टोड़ा
    • नागपुरी

    भैंस के उपयोग

    भैंस का प्रयोग मुख्य रूप से दुग्ध व मांस उत्पादन और खेती के कार्यों में होता है। सामन्य रूप से भैंस विश्व के ऐसे इलाक़ों में पाई जाती हैं जहां खेती से प्राप्त चारे एवं चरागाह अधिक मात्रा में हों। इसी कारण भैंसों की खिलाई-पिलाई में निश्कृश्ट चारों के साथ कुछ हरे चारे, कृषि उप-उत्पाद, भूसा, खली आदि का प्रयोग किया जाता है।

    कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न (भैंस का वैज्ञानिक नाम)

    भैंस का वैज्ञानिक नाम (Buffalo Scientific Name in Hindi) से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर यहाँ पर दिए गए हैं :-

    सबसे अधिक दूध देने वाली भैंस का नाम क्या है?

    भारत में सबसे ज्यादा दूध देने वाली भैंस मुर्राह नस्ल की भैंस होती है। जो एक बार 33.8 लीटर दूध देकर एक नेशनल रिकॉर्ड बना चुकी है।

    भैंस की उम्र क्या होती है?

    अमूमन भैंसों की उम्र ज्यादा से ज्यादा 20-22 साल की मानी जाती है।

    भारत में भैंस की नस्ल कितनी होती है?

    भारत में भैंसों की नस्‍लें (13 नस्‍लें)

    What is the scientific name of Buffalo?

    The scientific name of Buffalo is Bubalus bubalis

    भैंस का वैज्ञानिक नाम क्या है?

    भैंस का वैज्ञानिक नाम बुबलस बुबलिस (Bubalus bubalis) है।

    क्या जलीय भैंस खतरे में है?

    नहीं, जलीय भैंस एक पालतू प्रजाति है।

    जलीय भैंस कहाँ पाई जाती है?

    जलीय भैंस मुख्य रूप से भारतीय उपमहाद्वीप के साथ चीन, दक्षिण पूर्व एशिया, ऑस्ट्रेलिया, यूरोप, उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका में पाई जाती है।

    Is the water buffalo endangered?

    No. The water buffalo is a domesticated species.

    Where can the water buffalo be found?

    The water buffalo can be found on the Indian subcontinent, China, Southeast Asia, Australia, Europe, North America and South America.

    Buffalo Scientific Name in Hindi

    Bhais Ka Vaigyanik Naam

    Buffalo Ka Scientific Name in Hindi

    Buffalo Ka Vaigyanik Naam

    निष्कर्ष – Buffalo Scientific Name in Hindi

    इस आर्टिकल में हमने आपको भैंस का वैज्ञानिक नाम हिंदी में (Scientific Name of Buffalo in Hindi) या Buffalo Ka Vaigyanik Naam Kya Hai की जानकारी दी है। इसके अलावा Scientific Classification of Buffalo in Hindi (भैंस का वर्गीकरण) से जुड़ी जानकारी भी दी है।

    आशा करते हैं कि हमारा यह आर्टिकल Bhais ka Vaigyanik Naam की जानकारी आपको पसंद आई होगी। इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया में शेयर करना ना भूलें।

    Spread the love by sharing this article :-

    Content is protected by the DMCA.