Delhi Schools Reopening News in Hindi : राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (National Capital Delhi) में स्कूल जल्द ही फिर से खुल सकते हैं। दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को कहा कि सरकार स्कूलों के फिर से खोलने पर अंतिम निर्णय लेने के लिए स्थिति का विश्लेषण कर रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली सरकार (Delhi Government) पब्लिक के लिए कोरोना वैक्सीन उपलब्ध होने के बाद स्कूलों को फिर से खोलने (Delhi School Reopening) की योजना बना रही है।

Delhi School Reopening News : Summary

  • दिल्ली सरकार (Delhi Government) कोविड-19 वैक्सीन जनता के लिए उपलब्ध होने के बाद ही दिल्ली के स्कूलों को फिर से खोलने (Delhi School Reopening) की योजना बना रही है।
  • दिल्ली सरकार स्कूली बोर्ड परीक्षा को ध्यान में रखते हुए, स्कूलों को फिर से खोलने (Delhi School Reopening) का सबसे अच्छा अवसर तलाश रही है
  • दिल्ली सरकार (Delhi Government) द्वारा स्कूलों फिर से खोलने (Delhi School Reopening) के लिए जल्द ही नए दिशानिर्देश जारी किए जाएँगे।
Delhi Schools Reopening News in Hindi
Delhi Schools Reopening News in Hindi

दिल्ली सरकार का क्या कहना है? :- Delhi School Reopening News

दिल्ली के स्कूल कब खुलेंगे (When will Delhi schools reopen) : सिसोदिया ने कहा, दिल्ली में स्कूल फिर से खोलने की हमारी भविष्य की रणनीति इस बात पर निर्भर करेगी कि हेल्थ सेक्टर के फ्रंटलाइन वर्कर्स के टीकाकरण (Vaccination) के बाद आम जनता (Public) के लिए कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) कितनी जल्दी उपलब्ध होती है।

उन्होंने कहा कि हमें पूरी उम्मीद है की हम सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाओं की तारीखों (CBSE Board Exam Date) की घोषणा होते ही हम स्कूलों को फिर से खोल (Delhi schools reopen) सकते हैं।”

दिल्ली में स्कूल कब से खुलेंगे मनीष सिसोदिया का बयान /≈When will Delhi schools reopen

उन्होंने बताया कि – दिल्ली के स्कूलों को कोविड-19 के लिए जारी की गई सभी एसओपी और दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए निर्देश दिया गया है। राज्य सरकार द्वारा स्कूल फिर से खोलने के बाद जल्द ही नोटिस जारी किया जा सकता है। उन्होंने ये भी कहा कि – दिल्ली में स्कूलों को अभी तक खोलने की योजना नहीं बनाई गई है, हालाँकि इसके बारे में विचार विमर्श किया जा रहा है।

आगे उन्होंने कहा – अगर हम फरवरी तक लोगों का टीकाकरण शुरू कर दें, तो भी जुलाई तक हम पूरी दिल्ली के लोगों का टीकाकरण नही कर पाएँगे, ऐसे में अगर स्कूल फिर से खोला जाता है, तो उसके लिए नए नियम क़ानून और दिशानिर्देश जारी किए जायेंगे।

उन्होंने ये भी कहा की – इससे पहले स्कूलों को फिर से खोलने की कोई संभावना नहीं है। हमें यह भी देखना होगा कि शिक्षकों और छात्रों को जोखिम में डाले बिना परीक्षाएं कैसे आयोजित की जाएंगी।

दिल्ली के स्कूलों में नर्सरी दाखिला खत्म : Delhi School Nursery Admission News

दिल्ली राज्य सरकार ने शैक्षणिक वर्ष 2021-22 के लिए दिल्ली में नर्सरी दाखिले (Delhi School Nursery Admission) को अस्थायी रूप से बंद करने पर विचार-विमर्श कर रही है। इसके साथ ही सरकार ने 2022-23 में Nursery और Kindergarten के दो बैचों का प्रस्ताव पर भी विचार कर रही है।

लेकिन अभी तक दिल्ली सरकार ने नर्सरी दाखिले (Nursery Admission) को रद्द करने के इस फैसला नही किया है, दूसरी तरफ़ दिल्ली के स्कूलों के प्रिंसिपल नर्सरी दाखिले (Nursery Admission) को रद्द करने के इस फैसले के पक्ष में नहीं हैं।

दूसरे राज्यों में स्कूल कब से खुलेंगे /≈School Kab Khulenge /≈When will schools reopen

इस बीच, ख़बर है कि कई अन्य राज्यों ने स्कूलों को फिर से खोलने का फैसला कर लिया है। जैसे की गुजरात, राजस्थान और पंजाब की सरकारों ने जल्द ही स्कूल फिर से खोलने की घोषणा कर दी है। गुजरात में 11 जनवरी से 10वीं और 12वीं कक्षाएँ फिर से शुरू हो जाएँगी।

इसी तरह राजस्थान में 18 जनवरी से स्कूल और कॉलेज फिर से खुल जाएँगे, इसकी घोषणा राजस्थान सरकार ने कल की थी। स्कूल फिर से खोलने में पंजाब का भी नाम आता है। पंजाब सरकार ने कल घोषणा की थी – पंजाब में 7 जनवरी से कक्षा 5 से 12 के स्कूल खुल जाएँगे

नीचे दिए गए पोस्ट को आप पढ़ कर जान सकते हैं, इन राज्यों के स्कूल, कॉलेज खोलने के प्लान और तारीख़ के बारे में।

अरुणाचल प्रदेश में, कक्षा 8,9 के छात्रों के लिए स्कूल फिर से खोले जा चुके हैं। जबकि 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए कक्षाएं 16 नवंबर 2020 से पहले ही शुरू हो चुकी थी। हालांकि अरुणाचल प्रदेश में, आवासीय स्कूल और हॉस्टल अभी भी बंद रहेंगे।

केरल, बिहार, उत्तर प्रदेश, असम, हरियाणा, झारखंड, मध्य प्रदेश और सिक्किम उन राज्यों में से हैं, जिन्होंने इस महीने से कक्षा 9वीं से 12वीं के छात्रों के लिए स्कूल फिर से खोलने का निर्णय ले लिया है।

किए गए एक सर्वे के अनुसार, 69 प्रतिशत माता-पिता अप्रैल में (जब नया शैक्षणिक सत्र शुरू होता है) स्कूलों को फिर से खोले जाने के पक्ष में हैं। सर्वे में बताया गया कि – केवल 26 प्रतिशत माता-पिता ही ऐसे हैं, जो अप्रैल में बच्चों को कोरोना वैक्सीन लगने के बाद स्कूल भेजने की बात कही है।

आपको बता दें की कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए पिछले साल मार्च देश के सभी शैक्षणिक संस्थानों को बंद कर दिया गया था। इसके बाद अक्टूबर से जब देश में कोरोना के मामले घटने लगे तो कुछ राज्यों ने शैक्षणिक संस्थानों को फिर से खोलने के बारे में विचार करना शुरू किया और कुछ राज्यों ने 15 अक्टूबर से स्कूलों को आंशिक रूप से खोलने का निर्णय ले लिया था। फिर भी बहुत से ऐसे राज्य थे, जहाँ अभी भी स्कूल बंद पड़े हैं।