News

Guidelines for school – दिल्ली में स्कूल के लिए नए नियम, सप्ताह में 3 दिन बच्चे स्कूल आएंगे, सभी बच्चों को दो पालियों में बुलाया जाएगा

सोशल मीडिया में शेयर करें


एनसीईआरटी ने दिल्ली में स्कूल खोलने की तैयारियों के बारे में सरकार को एक मसौदा दिशानिर्देश प्रस्तुत किया है। मसौदे के अनुसार, स्कूल खुलने के बाद, एक कक्षा के सभी बच्चों को एक साथ स्कूल नहीं बुलाया जाएगा।

इसके लिए, ऑड-ईवन फॉर्मूला “रोल नंबर” के आधार पर लागू किया जाएगा या कक्षाएं दो पालियों में की जाएंगी।

स्कूल पहुंचने वाले बच्चों के समय में कक्षाओं के अनुसार 10-10 मिनट का अंतराल होगा। मसौदे में यह भी कहा गया है कि अगर कक्षा के बजाय खुले क्षेत्र में पढ़ाया जाए तो बच्चों के बीच दूरी बनी रहेगी। यह सभी के लिए बेहतर होगा।

guidelines for schools

स्दिशानिर्देश के अनुसार – स्कूल खोलने के 6 चरण होंगे

  • 11 वीं -12 वीं की कक्षाएं पहले चरण में शुरू होंगी।
  • 9 वीं -10 वीं की कक्षाएं पहले चरण के 1 सप्ताह बाद शुरू होंगी।
  • 6 वीं से 8 वीं तक की कक्षाएं पहले चरण के 2 सप्ताह बाद शुरू होंगी।
  • कक्षा 3 से 5 पहले चरण के 3 सप्ताह के बाद शुरू होंगे।
  • पहले चरण के 4 सप्ताह बाद – पहली और दूसरी कक्षा शुरू होगी
  • पहले चरण के 5 सप्ताह के बाद – नर्सरी और केजी कक्षाएं केवल अभिभावक की सहमति से शुरू की जा सकती हैं।

यह नियम केवल ग्रीन जोन के लिए है। इसमें कहा गया है कि जब तक कंटेनर जोन ग्रीन जोन नहीं बन जाता, तब तक कंटेनर जोन के स्कूल बंद रहेंगे।

स्कूलों के लिए दिशानिर्देश: कोरोना लॉकडाउन

  • एक कक्षा में केवल 30 या 35 बच्चों को बैठाया जा सकता है।
  • छात्रों के बीच 6 फीट की दूरी की आवश्यकता होगी।
  • क्लासरूम में एसी नहीं चलेंगे।
  • कक्षा के दरवाजे और खिड़कियां खुली रहेंगी।
  • छात्रों को ऑड-ईवन आधार पर बुलाया जाना है। लेकिन, घर के लिए असाइनमेंट रोजाना देने  होंगे।
  • बच्चे का नाम हर डेस्क पर लिखा जाएगा, ताकि बच्चा हर दिन एक जगह बैठ सके।
  • बच्चे की प्रगति के बारे में शिक्षक को हर 15 दिन में माता-पिता से बात करनी होगी।
  • स्कूल प्रबंधन यह सुनिश्चित करेगा कि कमरों की दैनिक सफाई की जाए।
  • कोई प्रार्थना और बैठक नहीं होगी। जैसे सुबह की प्रार्थना और वार्षिक समारोह आदि।
  • स्कूल के बाहर खाने के स्टॉल नहीं होंगे।
  • स्टाफ और छात्रों के स्कूल में प्रवेश से पहले स्क्रीनिंग अनिवार्य होगी।
  • बच्चे: कॉपी, पेन, पेंसिल, भोजन जैसी कोई चीज साझा नहीं कर सकते।
  • हर बच्चे को मास्क पहनना जरूरी है।
  • छात्र कॉपी, पेन, पेंसिल, इरेजर आदि कुछ भी साझा नहीं कर पाएंगे।
  • छात्र अपने पीने के लिए घर से पानी लाएंगे।
  • बच्चे अपने भोजन को किसी और के साथ साझा नहीं कर पाएंगे।
  • जो छात्र स्कूल के इन नियमों का पालन नहीं करेंगे और आपसी दूरी बनाने में सहयोग नहीं करेंगे, उनके माता-पिता को इसके बारे में सूचित किया जाएगा। यदि आवश्यक हो, तो उसकी स्कूली शिक्षा रोक दी जा सकती है यानी ज़रूरी हुआ तो उसका स्कूल आना बंद करवाया जा सकता है।

अगर अभिभावक फ्रंटलाइन फाइटर (जैसे की डॉक्टर, नर्स, पुलिस इत्यादि) हैं, तो स्कूल प्रशासन को इसकी सूचना देनी होगी।

  • माता-पिता, जो चिकित्सा, सुरक्षा या सफाई कार्य में शामिल हैं, उन्हें स्कूल को पहले से सूचित करना होगा।
  • शिक्षक केवल उन लोगों से मिल सकेंगे जो फोन पर संपर्क नहीं कर सकते।
  • पीटीएम (पैरेंट-टीचर मीटिंग) नहीं होगी, आप हर 15 दिन में स्कूल से बच्चे की प्रगति रिपोर्ट पर बात कर सकते हैं।

स्कूल परिवहन नियम:

किसी भी वाहन में एक सीट पर केवल एक बच्चे को बैठाना होगा। परिवहन से संबंधित विस्तृत दिशा-निर्देश जल्द ही जारी किए जाएंगे।

छात्रावासों (Hostels) के लिए दिशानिर्देश:

  • प्रत्येक बेड के बीच 6 फीट की दूरी रखनी होती है।
  • छात्रावास की क्षमता के 33% छात्र ही छात्रावास में रहेंगे।
  • कोई भी छात्र बाजार नहीं जा सकेगा।


सोशल मीडिया में शेयर करें
इसे भी पढ़ें :  New guidelines for school in Delhi, children will come to school 3 days a week, all children will be called in two shifts

You cannot copy content of this page

error: Content is Protected by DMCA. आपकी गतिविधियों को हमारे एआई सिस्टम द्वारा ट्रैक किया जा रहा है। Your activities are being tracked by our AI System.