छोड़कर सामग्री पर जाएँ

जनसंख्या घनत्व किसे कहते हैं, परिभाषा, सूत्र और प्रकार | Jansankhya Ghanatv Kise Kahte Hain

    Jansankhya Ghanatwa Kise Kehte Hain : आज के समय में दुनिया की आबादी बहुत ज़्यादा बढ़ चुकी है और लगातार बढ़ रही है। आबादी को लेकर लोगों के मन में सवाल आता है कि जनसंख्या घनत्व किसे कहते हैं, जनसंख्या घनत्व की परिभाषा और जनसंख्या घनत्व का सूत्र क्या है?

    आप लोगों को सही जानकारी देने के लिए हमने यहाँ पर जनसंख्या घनत्व के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करने की कोशिश की है। इस आर्टिकल को पढ़ कर आप जान सकते हैं कि जनसंख्या घनत्व किसे कहते हैं, जनसंख्या घनत्व की परिभाषा और जनसंख्या घनत्व का सूत्र क्या है? इसके अलावा भी कई और महत्वपूर्ण जानकारियाँ यहाँ पर दी गई हैं।

    जनसंख्या घनत्व किसे कहते हैं (Jansankhya Ghanatv Kise Kahte Hain)

    प्रति वर्ग किलोमीटर में रहने वाले व्यक्तियों या जीवों की संख्या को जनसंख्या घनत्व (Population Density) कहा जाता है। यानि एक भौगोलिक क्षेत्र में रहने वाले, जीवों या प्रजातियों के समूह की संख्या को जनसंख्या घनत्व कहते हैं।

    यह एक प्रमुख भौगोलिक शब्द है, जो प्रति इकाई क्षेत्र में जनसंख्या का माप बताता है। इसका उपयोग अक्सर जीवित जीवों की जनसंख्या पता करने के लिए किया जाता है।

    Jansankhya Ghanatv द्वारा किसी विशिष्ट स्थान या भौगोलिक क्षेत्र में इंसानों की आबादी पता की जाती है। जनसंख्या घनत्व को English में Population Density कहा जाता है।

    Jansankhya Ghanatv अक्सर एक सूचकांक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, जिससे पता चलता है कि किसी निश्चित भौगोलिक क्षेत्र या स्थान में कितनी आबादी निवास करती है।

    संबंधित जानकारी :  सतना की जनसंख्या कितनी है (2022 वर्तमान में) | Satna Population 2022 [City, District]

    अब आइए जानते हैं कि जनसंख्या घनत्व का सूत्र क्या होता है?

    जनसंख्या घनत्व का सूत्र

    जनसंख्या घनत्व का सूत्र यहाँ दिया गया है, ताकि आप समझ सकें की आख़िर इसे कैसे निकाला जाता है?

    जनसंख्या घनत्व = व्यक्तियों की संख्या / भूमि का क्षेत्रफल।

    इसे आप साधारण भाषा में ऐसे समझ सकते हैं :

    जनसंख्या घनत्व = क्षेत्र की कुल आबादी / उस भौगोलिक स्थान का कुल क्षेत्रफल।

    जब Jansankhya Ghanatwa निकाला जाता है, तो भौगोलिक स्थान के क्षेत्रफल की इकाई के रूप में वर्ग किलोमीटर या वर्ग मील का इस्तेमाल होता है। जिससे की समझने में आसानी हो क्योंकि आप प्रति मीटर में जनसंख्या घनत्व का पता करने का कोई औचित्य नज़र नही आता है।

    उदाहरण से समझिए Jansankhya Ghanatwa कैसे पता किया जाता है?

    मान लीजिए एक ज़िला ‘सतना’ है जिसकी कुल आबादी 10,00,000 है और जिले का कुल क्षेत्रफल 500 वर्ग किलोमीटर है, तो अब सतना का जनसंख्या घनत्व बताइए?

    इसके लिए आप जनसंख्या घनत्व के सूत्र का इस्तेमाल करके पता करें :
    सतना की कुल आबादी = 10,00,000
    कुल भूमि क्षेत्रफल = 500 वर्ग किलोमीटर

    जनसंख्या घनत्व = व्यक्तियों की संख्या / भूमि का क्षेत्रफल

    सतना का जनसंख्या घनत्व = 10,00,000 / 500
    सतना का जनसंख्या घनत्व = 2000 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर

    सतना के बारे में यहाँ पर दी गई जानकारी केवल उदाहरण मात्र के लिए है, यह सतना का असली जनसंख्या घनत्व नही है।

    जनसंख्या घनत्व के प्रकार (Types of Population Density in Hindi)

    कई लोगों का सवाल होता है कि जनसंख्या घनत्व कितने प्रकार का होता है और यह किस आधार पर तय किया जाता है। इसको प्रकार में बाटने की ज़रूरत क्यों हुई? इन सब सवालों के जवाब आपको नीचे विस्तार से दिए गए हैं।

    संबंधित जानकारी :  सतना की जनसंख्या कितनी है (2022 वर्तमान में) | Satna Population 2022 [City, District]

    जनसंख्या घनत्व कितने प्रकार का होता है

    Type of Population Density in Hindi : जनसंख्या के वितरण की सही और बारीक जानकारी प्राप्त करने या फिर किसी खास उद्देश्य के लिए जनसंख्या के आंकड़ों को इकट्ठा कर उन्हें कई प्रकार से बाँटा जा सकता है। भारत में पिछली जनगणना 2011 में हुई थी। उस समय में भारत में राज्य स्तर पर उपलब्ध जनसंख्या के आंकड़ों के आधार पर जनसंख्या घनत्व को तीन श्रेणियों में बांटा गया था, जो कि निम्न हैं :

    • अधिक घनत्व वाले क्षेत्र
    • मध्य घनत्व वाले क्षेत्र
    • कम घनत्व वाले क्षेत्र

    अधिक जनसंख्या घनत्व वाले क्षेत्र ऐसे होते हैं जहां पर जनसंख्या का घनत्व 400 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर से ज्यादा होता है। इन क्षेत्रों में घनी आबादी होने का मुख्य कारण उच्च शहरीकरण तथा आधुनिकीकरण के साथ लोगों को व्यवसाय और नौकरी के ज़्यादा अवसर मिलना है, जिससे की दूसरे क्षेत्रों की आबादी उस इलाक़े में आकर रहने लगती है और वहाँ का Jansankhya Ghanatwa बढ़ जाता है।

    मध्य घनत्व वाले क्षेत्रों में ऐसे भौगोलिक क्षेत्रों को शामिल किया जाता है, जहां पर जनसंख्या घनत्व 100 से 400 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर के बीच होता है। भारत के ज़्यादातर भौगोलिक क्षेत्र इसी टाइप के अंतर्गत आते हैं। ऐसे क्षेत्रों की अधिकता का कारण ये है कि यहाँ की जमीन ऊबड़-खाबड़ होने की वजह से कृषि विकास में अवरोध आता है, साथ ही सिंचाई के लिये जल का अभाव और वर्षा की निम्न व अनियमित मात्रा के साथ रोज़गार के कम माध्यम होने की वजह से यहाँ की आबादी कम होती जा रही है।

    संबंधित जानकारी :  सतना की जनसंख्या कितनी है (2022 वर्तमान में) | Satna Population 2022 [City, District]

    कम घनत्व वाले क्षेत्र में Jansankhya Ghanatwa 100 व्यक्ति या उससे भी कम प्रति वर्ग किलोमीटर होता है। भारत में ऐसे कई भौगोलिक क्षेत्र हैं। इन इलाक़ों में जनसंख्या कम होने के मुख्य कारण यहाँ की ऊँची-नीची तथा विषम भू-आकृतियों के साथ कम वर्षा होना है साथ ही यहाँ की जीवन जीने के लिए कठिन परिस्थितियाँ होती हैं।

    जनसंख्या घनत्व की यूनिट क्या होती है?

    आपको ऊपर बताया जा चुका है कि भौगोलिक स्थान के क्षेत्रफल की इकाई के रूप में वर्ग किलोमीटर या वर्ग मील का इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए जनसंख्या घनत्व की यूनिट per sq km (प्रति वर्ग किलोमीटर) या per sq mi (प्रति वर्ग मील) होगी।

    इस तरह अब आप जान चुके होंगे की जनसंख्या घनत्व की यूनिट के रूप में व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर या फिर व्यक्ति प्रति वर्ग मील इकाई का इस्तेमाल किया जाता है।

    उच्च जनसंख्या घनत्व वाले 3 प्रमुख क्षेत्र कौन से हैं?

    दुनिया में सबसे अधिक जनसंख्या घनत्व वाले 3 प्रमुख क्षेत्र निम्न हैं :

    • दक्षिण-मध्य एशिया
    • पूर्वी एशिया
    • दक्षिण-पूर्व एशिया

    Jansankhya Ghanatv के प्रमुख तथ्य

    • संयुक्त राष्ट्र की एक हालिया रिपोर्ट में यह बताया गया है कि 2024 तक भारत की जनसंख्या चीन से ज़्यादा हो जाएगी यानि आगे निकल जाएगी।
    • भारत की सरकारें 1951 से ही दुनिया के सबसे पुराने परिवार नियोजन कार्यक्रम चला रही हैं लेकिन सरकार द्वारा शुरू किए गए कार्यक्रम सफल नहीं रहे हैं और यहाँ की जनसंख्या वृद्धि पर लगाम नही लग सकी है।
    • 2011 में हुई जनगणना के अनुसार भारत का जनसंख्या घनत्व 382 प्रति वर्ग किलोमीटर था।

    Spread the love by sharing this article :-

    Content is protected by the DMCA.