Facts

Jupiter Facts in Hindi | बृहस्पति ग्रह की रोचक तथ्य

Jupiter Facts in Hindi – स्वागत है दोस्तो, आज हम अपने सौर मंडल के पाँचवे ग्रह (5th planet of our solar system) बृहस्पति के बारे में जानेंगे। इस लेख में आपको बृहस्पति ग्रह की जानकारी के साथ इसके रोचक तथ्यों (Facts About Jupiter) के बारे में भी बताया जाएगा। बृहस्पति ग्रह (Jupiter Planet) के बारे में अधिक जानकारी के लिए इस लेख को पूरा पढ़ें….

यहाँ हम आपको Jupiter planet information in Hindi के साथ Jupiter Facts in Hindi और Interesting Facts About Jupiter in Hindi के बारे में बताएँगे

बृहस्पति ग्रह – Jupiter Planet

बृहस्पति ग्रह (Jupiter Planet) हमारे सौरमंडल (Solar System) का सबसे बड़ा ग्रह है। यह सूर्य से पांचवां ग्रह है। अगर हम अपने सौर मंडल के सभी ग्रहों को एक साथ भी मिला दें, तो भी बृहस्पति ग्रह (Jupiter Planet) सौर मंडल (Solar System) के संयुक्त ग्रहों (All Planets) की तुलना में ढाई गुना बड़ा है। यह मुख्य रूप से गैसों से बना है, इसलिए इसे Gas Giant के रूप में भी जाना जाता है।

Jupiter Facts in Hindi
Jupiter Facts in Hindi

बृहस्पति ग्रह की जानकारी (Jupiter planet information)

बृहस्पति ग्रह का इक्वेटोरियल व्यास (Jupiter Equatorial Diameter)142,984 किमी
बृहस्पति ग्रह का ध्रुवीय व्यास (Jupiter Polar Diameter)133,709 किमी
बृहस्पति ग्रह का द्रव्यमान (Jupiter Mass)1.90×10^27 किग्रा (318 पृथ्वी के बराबर)
बृहस्पति ग्रह की चंद्रमायें (Jupiter’s Moon)79 (आईओ, यूरोपा, गेनीमेड और कैलिस्टो)
बृहस्पति के छल्ले (Jupiter’s Rings)4
बृहस्पति ग्रह की कक्षा दूरी (Jupiter Orbit Distance)778,340,821 किमी (5.20 एयू)
बृहस्पति ग्रह की कक्षा अवधि (Jupiter orbit period)4,333 दिन (11.9 वर्ष)
बृहस्पति ग्रह की सतह का तापमान (Jupiter Planet Surface Temperature)-108 डिग्री सेल्सियस
बृहस्पति ग्रह के बारे में कब पता चला (When did we come to know about Jupiter)7 वीं या 8 वीं शताब्दी ईसा पूर्व
बृहस्पति ग्रह की खोज किसने की थी (Who discovered the planet Jupiter)बेबीलोन के खगोलविदों द्वारा (Babylonian astronomers)
Jupiter planet information in Hindi

बृहस्पति ग्रह के रोचक तथ्य – Facts about Jupiter

  • बृहस्पति ग्रह सौरमंडल की चौथी सबसे चमकीली वस्तु है : बृहस्पति ग्रह (Jupiter) से ज़्यादा केवल सूर्य, चंद्रमा और शुक्र चमकीले हैं। बृहस्पति ग्रह (Jupiter Planet), पृथ्वी से नग्न आंखों से दिखाई देने वाले पांच ग्रहों में से एक है।
  • बृहस्पति ग्रह (Jupiter) के बारे में सबसे पहले जानकारी प्राचीन बेबीलोन के खगोलविदों को हुई थी : 7वीं या 8वीं शताब्दी ईसा पूर्व के आसपास इसकी खोज की गई थी। बृहस्पति का नाम रोमन देवताओं के राजा के नाम पर रखा गया है। यूनानियों के लिए, यह थंडर के देवता “Zeus” का प्रतिनिधित्व करता था। मेसोपोटामिया के लोग (Mesopotamians) बृहस्पति को बेबीलोन (Babylon) शहर के भगवान मर्दुक (God Marduk) और संरक्षक के रूप में देखते थे। जर्मनिक जनजाती (Germanic tribes) के लोग बृहस्पति ग्रह (Jupiter) को डोनर (Donar) या थोर (Thor) के रूप में जानते थे।
  • बृहस्पति में किसी भी दूसरे ग्रह के मुक़ाबले सबसे छोटा दिन होता है : Jupiter Facts – बृहस्पति, हर 9 घंटे 55 मिनट में एक बार अपनी धुरी पर घूमता है। इतना जल्दी धुरी पर घूमने की वजह से यानी रैपिड रोटेशन की वजह से ग्रह थोड़ा समतल हो जाता है, जिससे ग्रह का आकार तिरछा है।
  • बृहस्पति, पृथ्वी के 11.8 वर्ष में एक बार सूर्य की परिक्रमा करता है : पृथ्वी से देखने पर यह आकाश में धीरे-धीरे चलते हुए प्रतीत होता है, यह एक नक्षत्र से दूसरे में जाने में महीनों का समय लेता है।
  • बृहस्पति में अद्वितीय बादल (Unique Cloud) मिलते हैं : बृहस्पति का ऊपरी वातावरण क्लाउड बेल्ट और ज़ोन में विभाजित है। बृहस्पति के बादल मुख्य रूप से अमोनिया क्रिस्टल, सल्फर और दो यौगिकों के मिश्रण से बने होते हैं।
  • ग्रेट रेड स्पॉट – बृहस्पति पर सबसे बड़ा तूफान : ग्रेट रेड स्पॉट (Great Red Spot Storm) नाम का तूफान बृहस्पति ग्रह पर आया अब तक का सबसे बड़ा तूफान है, यह लगभग 350 वर्षों तक बृहस्पति ग्रह पर था। ग्रेट रेड स्पॉट तूफान (Great Red Spot Storm) इतना बड़ा था की तीन पृथ्वी इसके अंदर समा सकते थे।
  • बृहस्पति का आंतरिक भाग चट्टान, धातु और हाइड्रोजन यौगिकों से बना है : बृहस्पति के विशाल वायुमंडल के नीचे (जो मुख्य रूप से हाइड्रोजन से बना है), संपीड़ित हाइड्रोजन गैस, तरल धातु हाइड्रोजन की परते हैं। साथ ही बृहस्पति का आंतरिक यानी कोर – बर्फ, चट्टान और धातुओं से बना है।
  • बृहस्पति का चंद्रमा गैनीमेडे (Ganymede) सौरमंडल का सबसे बड़ा चंद्रमा है : बृहस्पति के चंद्रमाओं को कभी-कभी जोवियन उपग्रह (Jovian satellites) कहा जाता है। बृहस्पति के सबसे बड़े चंद्रमा गैनीमेडे (Ganymede), कैलिस्टो आइओ (Callisto Io) और यूरोपा (Europa) हैं। बृहस्पति का चंद्रमा गैनीमेडे (Ganymede), बुध ग्रह की तुलना में बड़ा है, इसका व्यास 5,268 किमी का है।
  • बृहस्पति में छल्ले हैं : धूमकेतु और क्षुद्रग्रह के बृहस्पति में टकराने की वजह से जो धूल कण इसके वायुमंडल में फैलते हैं, उन्हीं से ये छल्ले (Jupiter Ring) बनते हैं। रिंग सिस्टम बृहस्पति के क्लाउड टॉप से लगभग 92,000 किलोमीटर ऊपर से शुरू होता है और ग्रह से 225,000 किमी से अधिक तक फैला है। इसके छल्ले 2,000 से 12,500 किलोमीटर मोटे होते हैं।
  • बहुत कम अंतरिक्ष यान बृहस्पति पर भेजे गए हैं : पायनियर 10 और Pioneer 11, वायेजर 1 और 2, गैलीलियो, कैसिनी, यूलिस (Ulysses) और न्यू होराइजन्स मिशन बृहस्पति पर भेजे गए हैं। इसके अलावा जूनो मिशन (Juno Mission) बृहस्पति में जुलाई 2016 में पहुँचा था। बृहस्पति पर भेजे जाने वाले भविष्य के अन्य मिशन जोवियन चंद्रमाओं यूरोपा, गेनीमेड और कैलिस्टो और उनके उप-महासागरों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।
इसे भी पढ़ें :  Venus Facts in Hindi | शुक्र ग्रह के रोचक तथ्य

बृहस्पति का ग्रेट रेड स्पॉट – Great Red Spot

बृहस्पति के भूमध्य रेखा से 22 डिग्री दक्षिण में स्थित, ग्रेट रेड स्पॉट एक तूफान है, जो कम से कम 186 वर्षों से बना हुआ है। वैज्ञानिकों के अनुमान से पता चलता है, कि तूफान साढ़े तीन शताब्दियों से अधिक समय से अस्तित्व में है।

ग्रेट रेड स्पॉट (Great Red Spot) का पहला अवलोकन सत्रहवीं शताब्दी में हुआ था, जब पहली बार दूरबीनों का उपयोग किया जाना शुरू हुआ था। हालांकि, यह अज्ञात है कि क्या यह वही लाल स्थान है जिसे हम आज देखते हैं, या क्या बृहस्पति के पास कई ऐसे तूफान हैं जो आकर चले गए हैं।

Great Red Spot एंटीक्लॉकवाइज (घड़ी की विपरीत दिशा में) घूमता है और पूरी तरह से घूमने में पृथ्वी के 6 दिन के बराबर समय लेता है। Great Red Spot के आसपास एक और रहस्य है, जो इसे लाल बनाता है। वैज्ञानिकों के पास कई सिद्धांत हैं, उदाहरण के लिए, लाल कार्बनिक यौगिकों की उपस्थिति।

बृहस्पति का वायुमंडल – Jupiter’s Atmosphere

बृहस्पति का वायुमंडल (Jupiter’s Atmosphere) सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है। इसका वायुमंडल – 90% हाइड्रोजन और 10% हीलियम से बना है, लगभग उसी अनुपात में जो सूर्य में पाया जाता है। इसमें अमोनिया, मीथेन और पानी की बहुत कम मात्रा होती है।

Leave a Reply

You cannot copy content of this page

error: Content is Protected by DMCA. आपकी गतिविधियों को हमारे एआई सिस्टम द्वारा ट्रैक किया जा रहा है। Your activities are being tracked by our AI System.