Scientific Name

मटर का वैज्ञानिक नाम क्या है | Matar ka Vaigyanik Naam | Pea Scientific & Botanical Name

मटर का वैज्ञानिक नाम : भारतीय व्यंजन में इस्तेमाल किए जाने वाले Matar ka Vaigyanik Naam क्या है? अगर आपको मटर का वैज्ञानिक नाम की जानकारी नही है, तो इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें. यहाँ हमें Matar ka Vaigyanik Naam, मटर की खेती, मटर के बीज का रेट, matar ka paudha, variety of pea, pea scientific name in Hindi या pea botanical name in Hindi के बारे में पूरी जानकारी विस्तार पूर्वक देने की कोशिश की है. आइए जानते हैं :

मटर का वैज्ञानिक नाम क्या है | Matar ka Vaigyanik Naam

फली Pisum sativum के छोटे गोलाकार बीज या फिर बीज-फली को मटर के रूप में जाना जाता है। मटर के पौधे का वानस्पतिक नाम पाइसम सैटिवम (Pisum sativum) होता है। मटर हरे या पीले रंग का हो सकता है, और प्रत्येक फली में कई मटर होते हैं। मटर की फली को वनस्पति-शास्त्री उसका फल कहते हैं क्योंकि इनमें बीज होते हैं और यह एक (मटर) फूल के अंडाशय से उगते हैं।

मटर का पौधा एक फलीदार पौधे (खड़ी या चढ़ाई वाली बीन) की एक श्रेणी है। मटर के पौधे या बगीचे के मटर के पौधे का वैज्ञानिक नाम “पाइसम सैटिवम” है जहां पाइसम परिवर्तनीय वार्षिक यूरेशियन लताओं का एक छोटा जीनस है।

Pea Plant is a Category of a leguminous plant (erect or climbing bean). The common pea plant or garden pea plant name is “Pisum sativum” where Pisum is a small genus of variable annual Eurasian vines.

Matar ka Vaigyanik Naam (मटर का वैज्ञानिक नाम) – पाइसम सैटिवम (Pisum sativum) होता है।

  • Matar ka Vaigyanik Naam – Pisum sativum.
  • मटर का वैज्ञानिक नाम – पाइसम सैटिवम होता है.
  • Pea Plant Scientific Name is Pisum Sativum.
  • Pea Plant Biological Name is Pisum Sativum.
  • Sweet Pea Botanical Name is Lathyrus odoratus.

Matar ka Paudha (मटर का पौधा)

पाइसम सैटिवम (मटर) एक वार्षिक पौधा होता है यानी इसका जीवन चक्र एक वर्ष का होता है। यह ठंडे मौसम की फसल है, जो पूरी दुनिया में उगाई जाती है। हालाँकि आप इसे सर्दियों से लेकर गर्मियों की शुरुआत तक कभी भी लगा सकते हैं। एक मटर का वजन औसतन 0.1 से 0.36 ग्राम के बीच होता है।

अपरिपक्व मटर (Immature Peas) का उपयोग सब्जी या फ़्रोजन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। आम तौर पर मटर के रूप में जानी जाने वाली प्रजातियों की किस्मों को एक परिपक्व फली से सूखे मटर के दानों के उत्पादन करने के लिए उगाया जाता है। मटर का इस्तेमाल दलिया और मटर सूप में भी किया जाता है।

मटर की जानकारी (Matar ka Vaigyanik Naam)

मटर एक फली के आकार की सब्जी होती है, जो आमतौर पर हरी होती है लेकिन यह सुनहरे पीले या बैंगनी रंग की भी हो सकती है। यह ठंडे मौसम में उगाई जाने वाली सब्जी की फसल होती है। जब मिट्टी का तापमान 10 डिग्री सेल्सियस यानी 50 डिग्री फ़ारेनहाइट तक हो जाता है या इससे थोड़ा ज़्यादा तब बीज लगाए जा सकते हैं।

Matar ka Vaigyanik Naam
Matar ka Vaigyanik Naam

मटर का पौधा 13 से 18 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर सबसे ज़्यादा बढ़ता है। बीज लगाने के लगभग 60 दिनों के बाद, मटर की कई किस्में परिपक्व हो जाती हैं और फल देने लगती हैं। आज के समय में मटर की बेल की किस्में भी उपलब्ध हैं। बेल वाली मटर की किस्में अपनी पत्तियों से पतली टेंड्रिल विकसित करती हैं, यह टेंड्रिल किसी भी उपलब्ध समर्थन के चारों ओर घूमकर उसमें लिपट जाती हैं और 1-2 मीटर की ऊंचाई तक पहुंच सकती हैं।

इसे भी पढ़ें :  गेंदा के फूल का वैज्ञानिक नाम | Scientific Name of Marigold | Genda Ka Vaigyanik Name

मटर के पौधे को सीधा रखने और ऊपर चढ़ाने के लिए आमतौर पर किसी लकड़ी के पौधों से काटी गई शाखाओं को मिट्टी में डालकर समर्थन दिया जाता है, जो मटर को ऊपर बढ़ने के लिए सपोर्ट का काम करता है। मटर के पौधे का वानस्पतिक नाम (Pea Botanical Name) – पाइसम सैटिवम होता है।

मीठे मटर का वानस्पतिक नाम ॰ Pea Scientific Name in Hindi

मीठा मटर जिसे Sweat Pea कहा जाता है की खेती 17वीं शताब्दी से की जाती रही है और आज के समय में यह व्यावसायिक रूप से उपलब्ध किस्मों की एक विस्तृत श्रृंखला भी है। मीठे मटर इनके फूलों के रंग के कारण उगाए जाते हैं (जो आमतौर पर नीले, गुलाबी, बैंगनी और सफेद रंग के होते हैं) साथ ही साथ उनकी तीव्र और विशिष्ट सुगंध भी इन्हें खास बनती है।

कई माली मीठे मटर की खेती व्यक्तिगत आनंद या दिखावे के लिए भी करते हैं, साथ ही फूलवाले इनका इस्तेमाल करते हैं। शरद ऋतु और वसंत ऋतु में, मटर के बीज को ठंडे तख्ते में बोया जाता है। मीठे मटर के नाम से जानी जाने वाली मटर का बीज जहरीला होता है, इसलिए इसका इस्तेमाल खाद्य के रूप में नही किया जाता।

मीठे मटर सिर्फ़ बगीचे की सुंदरता बढ़ाने और दिखावे के लिए उगाए जाते हैं। इसके विशिष्ट फूल पीले रंग को छोड़कर विभिन्न रंगों में खिलते हैं। मीठे मटर के पौधे कई आकारों में आते हैं, कुछ में लंबी लताएँ होती हैं जो जाली और डंडों पर चढ़ती हैं। मीठे मटर का वानस्पतिक नाम Lathyrus odoratus होता है।

मटर का इस्तेमाल | Uses of Peas in Hindi

मटर का उपयोग घरेलू स्तर पर भोजन या फिर सुंदरता बढ़ाने के साथ चिकित्सा में क्षेत्र में भी किया जाता है। आइए जानते हैं मटर का उपयोग (Uses of Peas in Hindi) क्या क्या हो सकता है।

मटर का घरेलू उपयोग

मटर (matar) का सबसे सामान्य इस्तेमाल सब्जी के रूप में किया जाता है। ताजे मटर को आमतौर पर उबाला जाता है उसकी सब्ज़ी बनाई जाती है या फिर आलू के साथ सीधे बिना उबाले भी इसकी सब्ज़ी बनाई जा सकती है। इसके अलावा मटर को तल कर भी खाया जाता है। matar को परोसते समय अक्सर नमक और काली मिर्च का इस्तेमाल किया जाता है।

ताजे मटर का उपयोग पुलाव, सलाद में भी किया जा सकता है। पॉड मटर (जिसे स्नो मटर या स्नैप मटर भी कहा जाता है) आमतौर पर तले हुए व्यंजनों में उपयोग किया जाता है, खासकर अमेरिकी मीठे व्यंजनों में। पॉड मटर एक बार उनकी फली से निकाल लेने के बाद यदि तुरंत उपयोग नहीं किया जाता है, तो उन्हें कुछ घंटों के भीतर सुखाया जाता है या फिर फ़्रिज में रख दिया जाता है।

इसे भी पढ़ें :  मोगरा के फूल का वैज्ञानिक नाम | Mogra Ke Fool Ka Scientific Naam | Scientific and Botanical Name of Mogra Flower

भारतीय व्यंजनों में ताजे मटर का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है जैसे कि आलू मटर (मटर के साथ करी आलू) और मटर पनीर (मटर के साथ पनीर), हालांकि अब भारत में फ्रोजन मटर का भी उपयोग बढ़ने लगा है। मटर को कच्चा भी खाया जा सकता है क्योंकि इनका स्वाद मीठा होता है।

उत्तरी यूरोप, मध्य यूरोप के कुछ हिस्से, रूस, ईरान, इराक और भारत में मटर के सूप का सेवन भी किया जाता है। इसे स्वीडन में ärtsoppa के नाम से जाना जाता है, और यह एक पारंपरिक स्वीडिश व्यंजन है।

मटर का चिकित्सा क्षेत्र में उपयोग

कुछ लोगों को मटर और दाल से एलर्जी हो सकती है, ऐसी एलर्जी को विसिलिन या कॉन्विसिलिन कहते हैं।

यहूदी और भूमध्यसागरीय तटीय क्षेत्रों के अन्य वंशज फेविज्म या फवा-बीन-इस्म की वंशानुगत कमी से प्रभावित होते हैं, जो कि एंजाइम ग्लूकोज-6-फॉस्फेट डिहाइड्रोजनेज की वंशानुगत कमी के कारण होता है। ऐसे में ये लोग मटर का सेवन कर सकते हैं।

मटर की खेती | Matar ki Kheti

मटर के खेती ठंडे मौसम में की जाती है। जब मिट्टी का तापमान 10 डिग्री सेल्सियस (50 डिग्री फ़ारेनहाइट) तक या इससे थोड़ा ज़्यादा रहता है तब मटर के बीज लगाए जाते हैं। मटर का पौधा 13 से 18 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर सबसे ज़्यादा ग्रो करता है।

मटर की कई किस्में मटर का बीज बोने के लगभग 60 दिनों के बाद परिपक्व हो जाती हैं और फल देने लगती हैं। बेल वाली मटर की किस्में अपनी पत्तियों से पतली टेंड्रिल विकसित करती हैं, यह टेंड्रिल किसी भी उपलब्ध समर्थन के चारों ओर घूमकर उसमें लिपट जाती हैं और 1-2 मीटर की ऊंचाई तक पहुंच सकती हैं। उन्ही में इसके फल लगते हैं।

मटर के पौधों की विशेषताएँ क्या होती हैं?

मटर के पौधे की 7 विशेषताएं होती हैं, जिन्हें नीचे समझाया गया है :

  • मटर के फल का आकार गोल या झुर्रीदार होता है।
  • इसका रंग हरा या पीला होता है।
  • फली का आकार संकुचित या फ़ूला हुआ रहता है।
  • फली का रंग हरा या पीला होता है।
  • इसके फूलों का रंग बैंगनी या सफेद होता है।
  • इसका पौधा लंबा या बौना भी हो सकता है जो झाड़ीदार होता है।
  • मटर की पुष्प व्यवस्था (Floral arrangement) अक्षीय या टर्मिनल (axial or terminal) होती है।

मटर का वैज्ञानिक नाम | Matar ka Vaigyanik Naam

ऊपर हमने मटर का वैज्ञानिक नाम बताया है अब आपके टेस्ट की बारी है. अब आप बताइए की Matar ka Vaigyanik Naam क्या होता है. मटर का वैज्ञानिक नाम के लिए ये हिंट है : मटर एक एंजियोस्पर्म (Angiosperm) है, जो फैबेसी (Fabaceae) order से संबंधित होता है। यह दुनिया भर में अपने प्रोटीन युक्त खाद्य बीजों के लिए उगाया जाता है। Gregor Mendel द्वारा आनुवंशिकी का अध्ययन करने के लिए इसका व्यापक रूप से उपयोग किया गया था।

Answer : मटर एक फलीदार पौधा है, जो एक किसी सपोर्ट के सहारे ऊपर की ओर बढ़ता है और 6 फीट की ऊंचाई तक पहुंच सकता है। मटर के पौधे का वैज्ञानिक नाम पाइसम सैटिवम है। यह पौधा ग्रेगोर मेंडल सब्ज़ी में इस्तेमाल किए जाने और Gregor Mendel द्वारा वंशानुगत प्रयोगों में उपयोग के लिए प्रसिद्ध है।

इसे भी पढ़ें :  Botanical Name of Flowers in Hindi ॰ फूलों का वानस्पतिक नाम ॰ Flowers ke Vaigyanik Naam

स्पेशल नोट : Matar ka Vaigyanik Naam

मटर के पौधे का अध्ययन करके मेंडल ने वंशानुक्रम के सिद्धांतों का प्रस्ताव रखा था और तीन laws बनाए थे – प्रभुत्व का कानून (the Law of dominance), अलगाव का कानून (Law of segregation) और स्वतंत्र वर्गीकरण का कानून (the Law of Independent Assortment)।

उन्होंने संकरण प्रयोगों के इन परिणामों को 1856 में प्रकाशित किया। आनुवंशिकी के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए उन्हें आनुवंशिकी का जनक (Father of Genetics) माना जाता है।

Mendel ने आनुवंशिकी का अध्ययन करने के लिए मटर के पौधों को क्यों चुना था?

मेंडल ने आनुवंशिकी का अध्ययन करने के लिए मटर के पौधों को चुना क्योंकि उनमें आसानी से पहचाने जाने योग्य लक्षण और विशेषता होती हैं। साथ ही मटर के पौधे स्व-परागण या पर-परागण कर सकते हैं। केवल एक फूल आत्म-परागण में शामिल होता है; फूल का पराग मादा यौन अंगों पर पड़ता है। स्व-परागण उन विशेषताओं में से एक है, जो matar को अध्ययन के लिए बेस्ट ऑप्शन बनाती है।

Pea Scientific Name in Hindi

Pea Scientific Name is Pisum sativum.

मटर का कुल कौन सा है?

मटर का कुल Legumes है.

pea botanical name in Hindi

Pea botanical Name is Pisum sativum.

मटर की सबसे अच्छी किस्म कौन सी है?

पूसा प्रभात सिंचित व बारानी दोनों स्थितियों के लिए अच्छी किस्म मानी जाती है. इस किस्म का बीज बोने के बाद 90 दिन में इसकी फसल तैयार हो जाती है. साथ ही यह फफूंद रोग के लिए प्रतिरोधी है. इसकी औसत पैदावार 17.7 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है. ये अगेती बिजाई वाली किस्म है.

मटर के पौधे का वैज्ञानिक नाम बताएं?

मटर के पौधे का वैज्ञानिक नाम पाइसम सैटिवम (Pisum sativum) है।

मटर में कौन सी प्रोटीन पाई जाती है?

मटर में विटामिन ए, अल्फा-कैरोटीन और बीटा-कैरोटीन काफी अधिक होती है। ये सभी आंखों के लिए फायदेमंद माने गए हैं। रोज कच्चे मटर का सेवन करने से आंखों की रोशनी तेज होती है। इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर और प्रोटीन मौजूद होता है, जो खून में शर्करा की मात्रा को नियंत्रित करता है।

मटर का वैज्ञानिक नाम क्या होता है?

मटर का वैज्ञानिक नाम पाइसम सैटिवम (Pisum sativum) होता है।

मटर का बीज क्या रेट है?

सामान्य दिनों का मटर के बीज का रेट 10 हजार रुपये प्रति क्विंटल होता है. सरकार ने मटर का फ्लोर प्राइस 200 रुपये तय किया है. इस कीमत में पहले से लागू 50 फीसदी आयात शुल्क भी शामिल है. वहीं, घरेलू बाजार में मटर का भाव 50-55 रुपये प्रति किलोग्राम के बीच चल रहा है.

मटर का वैज्ञानिक नाम क्या है in Hindi?

मटर का वैज्ञानिक नाम पाइसम सैटिवम है।

निष्कर्ष (Matar ka Vaigyanik Naam)

इस पोस्ट में हमने आपको मटर के पौधे के बारे में पूरी जानकारी देने के साथ मटर का वैज्ञानिक नाम क्या है के बारे में भी बताया है. आशा करते हैं कि हमारी यह पोस्ट आपके काम आएगी. इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया में ज़रूर शेयर करें.

Leave a Reply

You cannot copy content of this page

error: Content is Protected by DMCA. आपकी गतिविधियों को हमारे एआई सिस्टम द्वारा ट्रैक किया जा रहा है। Your activities are being tracked by our AI System.