Coaching

Super 30 Coaching क्या है और यह कैसे बदल रहा है स्टूडेंट की लाइफ, Super 30 Founder Anand Kumar

सोशल मीडिया में शेयर करें

Super 30 Coaching : आज के समय में जब पूरे देश में शिक्षा को एक व्यापार बना दिया गया है, ऐसे में स्टूडेंट्स के सामने प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए महँगे कोचिंग इन्स्टिट्यूट में पढ़ाई करने के अलावा कोई विकल्प नही बचता। इसी बीच बिहार का Super 30 Coaching Institute गरीब स्टूडेंट्स को फ़्री में कोचिंग कराने की कोशिश करके उनका सपना पूरा करने में मदद करता है।

इस पोस्ट में Super 30 के बारे में पूरी जानकारी दी गई है, जैसे यह कैसे काम करता है, कहाँ स्थित है, और इसके Founder कौन हैं? Super 30 में कितनी फ़ीस लगती है। आइए जानते हैं इस अनोखे कोचिंग इन्स्टिट्यूट के बारे में।

Super 30 Coaching

सुपर-30 एक शैक्षिक और अत्यधिक महत्वाकांक्षी कार्यक्रम है जो “रामानुजन स्कूल ऑफ मैथमेटिक्स” के बैनर तले चलता है। यह हर साल 30 गरीब मेधावी प्रतिभाओं की खोज करता है और उन्हें IIT JEE Mains और Advanced की तैयारी कराता है। पिछले सात वर्षों में, इसने बेहद गरीब पृष्ठभूमि से सैकड़ों आईआईटीयन तैयार किए हैं।

Super 30 Coaching Patna Bihar
Super 30 IIT Coaching Patna, Bihar

इस कार्यक्रम के दौरान छात्रों को बिल्कुल मुफ्त कोचिंग के साथ रहने की सुविधा और भोजन प्रदान किया जाता है। Super 30 बेहद गरीब परिवारों के छात्रों को लक्षित करता है। ताकि गरीब परिवार भी इस विश्वास के साथ अपने बच्चों को पढ़ा सकें कि उनके बच्चे भी अब टॉप टेक्नोक्रेट बन सकते हैं। Super 30 Coaching की स्थापना गणित के शिक्षक आनंद कुमार और बिहार के पूर्व डीजीपी अभयानंद ने की थी।

Super 30 का इतिहास

2002 में अभयानंद और आनंद कुमार ने सुपर 30 की शुरुआत आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के 30 प्रतिभाशाली छात्रों जो आईआईटी कोचिंग का खर्च नहीं उठा सकते थे को फ़्री कोचिंग के लिए चुनने की योजना के साथ की थी। इन 30 छात्रों को तब IIT-JEE परीक्षा पास करने के लिए तैयार किया जाता था। उस समय आनंद कुमार की मां जयंती देवी ने स्वेच्छा से छात्रों के लिए खाना बनाया जो उन्हें फ़्री में दिया जाता था जबकि आनंद कुमार, अभयानंद और अन्य शिक्षकों ने उन्हें पढ़ाते थे। छात्रों को एक वर्ष के लिए अध्ययन सामग्री और आवास भी निःशुल्क प्रदान किया गया।

Super 30 कोचिंग के पहले साल में 30 में से 18 छात्रों ने IIT Exam पास करने अपनी जगह बनाई। अगले वर्ष, Super 30 कार्यक्रम की लोकप्रियता के कारण आवेदन संख्या बढ़ गई और 30 छात्रों का चयन करने के लिए लिखित परीक्षा आयोजित की गई। 2004 में 30 में से 22 छात्रों ने IIT Exam को क्वालिफ़ाई किया। इसके बाद देश भर में Super 30 की लोकप्रियता में वृद्धि हुई, जिससे स्टूडेंट्स के आवेदनों की संख्या कई गुना बढ़ गई।

2005 में 30 में से 26 छात्रों ने IIT-JEE परीक्षा उत्तीर्ण की, जबकि 2006 में IIT ने अपने Entrance Exam Pattern को बदल दिया इसके बावजूद भी 30 में से 28 स्टूडेंट सफल हुए। Super 30 Coaching के प्रयासों की सराहना करते हुए उस समय के बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने छात्रों को 50,000 रुपये के नकद पुरस्कार के साथ बधाई दी।

अगले वर्ष यानी 2007 में 38 और छात्रों ने आईआईटी-जेईई पास किया और 2008 में Super 30 के सभी 30 छात्रों ने आईआईटी-जेईई पास कर लिया, जिसके बाद अभयानंद ने Super 30 को यह कहते हुए छोड़ दिया कि यह प्रयोग अब समाप्त हो गया है। इसके बाद सुपर 30 बंद होने के कगार पर पहुँच गया तब आनंद कुमार के कुछ पूर्व छात्र सुपर 30 शिक्षक के रूप में शामिल हुए और 2009 और 2010 में सभी 30 छात्रों ने फिर से आईआईटी जेईई परीक्षा उत्तीर्ण की।

बाद के वर्षों में इन 30 छात्रों की सफलता दर इस प्रकार थी : 2011 में Super 30 के 30 टॉप स्टूडेंट्स में से IIT Entrance Exam Qualify करने वाले स्टूडेंट्स की सख्य 24, 2012 में 27, 2013 में 28, 2014 में 27, 2015 में 25 और 2016 में 28, 2017 में सभी 30 स्टूडेंट्स और 2018 में 30 में से 26 छात्र.

Super 30 के Founder – Anand Kumar का जन्म 1 जनवरी 1973 को हुआ था। इन्हें आज के समय में एक भारतीय गणित शिक्षक के रूप में जाना जाता है। इन्होंने ही इस कार्यक्रम की शुरूआत 2002 में बिहार की राजधानी पटना में की थी। उनका यह कोचिंग सेंटर Super 30 गरीब मेधावी स्टूडेंट्स को भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (IITs) की प्रवेश परीक्षा JEE (Mains और Advanced) की तैयारी करने में मदद करता है।

2018 तक 510 में से 422 छात्रों ने IIT Entrance Exam को क्वालिफ़ाई किया था। इसके बाद Discovery Channel ने एक Documentary में उनके काम को पूरी दुनिया को टीवी पर दिखाया था। Anand Kumar के जीवन और काम को 2019 में रिलीज़ हुई फिल्म – ‘Super 30‘ में दिखाया गया है। इस फ़िल्म में आनंद कुमार की भूमिका ऋतिक रोशन ने निभाई थी।

आनंद कुमार का जन्म भारत के राज्य बिहार में हुआ था। उनके पिता भारतीय डाक विभाग में क्लर्क थे। उनके पिता अपने बच्चों के लिए निजी स्कूली शिक्षा का खर्च नहीं उठा सकते थे इसलिए आनंद ने हिंदी माध्यम के सरकारी स्कूल में पढ़ाई की जहाँ उन्होंने गणित में अपनी गहरी रुचि विकसित की।

इसके बाद उन्होंने पटना हाई स्कूल – पटना, बिहार में पढ़ाई की। अपने स्नातक स्तर की पढ़ाई के दौरान आनंद कुमार ने Number Theory पर कागजात जमा किए, जो Mathematical Spectrum में प्रकाशित हुए थे। इसके बाद कुमार कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में प्रवेश पाने में सफल हुए, लेकिन अपने पिता की मृत्यु और अपने परिवार की आर्थिक स्थिति के कारण कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय नही जा सके।

Super 30 के संस्थापक Anand Kumar को मिले Awards

शिक्षा के क्षेत्र में उनके प्रयासों को अग्रणी माना जाता है। इसलिए 8 नवंबर 2018 को आनंद कुमार को दुबई में मालाबार गोल्ड एंड डायमंड्स द्वारा ग्लोबल एजुकेशन अवार्ड 2018 से सम्मानित किया गया। इसके बाद 2019 में आनंद कुमार को अमेरिका में सैन जोस, कैलिफोर्निया में एक समारोह में फाउंडेशन फॉर एक्सीलेंस इन एजुकेशन (FFE) द्वारा ‘एजुकेशन एक्सीलेंस अवार्ड 2019’ से सम्मानित किया गया है। फिर आनंद कुमार को चेन्नई में भी ‘महावीर पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया।

Anand Kumar - Super 30 IIT Coaching Founder
Anand Kumar – Super 30 IIT Coaching Founder

Anand Kumar 2019 में Google India सर्च में Trending थे

भारत में पॉप्युलर कोचिंग सेंटर सुपर 30 के संस्थापक आनंद कुमार जो 2019 में ऋतिक रोशन अभिनीत बायोपिक के लिए चर्चा में थे। इसी वजह से 2019 में इंटरनेट की दिग्गज कंपनी Google पर सबसे अधिक खोजे जाने वाली भारतीय हस्तियों की सूची में चौथे नंबर पर शामिल हो गए हैं।

आनंद कुमार Google India 2019 के शीर्ष ट्रेंडिंग हस्तियों – IAF विंग कमांडर अभिनंदन, गायिका लता मंगेशकर और पूर्व क्रिकेट ऑलराउंडर युवराज सिंह के बाद चौथे नंबर पर थे।

Google ने अपने ईयर इन सर्च 2019 का अनावरण करते हुए इस बात की जानकारी साझा की थी। इसके बाद आनंद कुमार ने कहा कि वर्षों से उन्हें देशवासियों से जो प्यार और स्नेह मिला है, उसके लिए वह सदैव ऋणी रहेंगे।

नवंबर 2019 में श्री आनंद कुमार को Cambridge Union द्वारा Cambridge University में एक Lecture देने के लिए भी आमंत्रित किया गया था। Cambridge University वही संस्थान है जिसमें कुमार अपनी शिक्षा को आगे बढ़ाना चाहते थे, लेकिन पारिवारिक आर्थिक मजबूरियों की वजह से प्रवेश पाने के बावजूद नहीं गए थे।

Super-30 में प्रवेश कैसे मिलता है

Super 30 देशभर के गरीब मेधावी स्टूडेंट्स को IIT Entrance Exam की तैयारी करवाता है। इसके लिए इन सभी स्टूडेंट्स का चयन आनंद कुमार की संस्था ‘रामानुजन स्कूल ऑफ मैथमैटिक्स’ एक प्रवेश परीक्षा के द्वारा करता है। इसलिए अगर आप आर्थिक रूप से कमजोर परिवार से ताल्लुक़ रखते हैं तो रामानुजन स्कूल ऑफ मैथमैटिक्स द्वारा सालाना आयोजित की जाने वाली Super 30 Entrance Exam में शामिल होकर Super 30 में प्रवेश पा सकते हैं।

लेकिन इस बात का ध्यान रखें इस प्रवेश परीक्षा के लिए लाखों स्टूडेंट अप्लाई करते हैं और केवल 30 का ही चयन किया जाता है इसलिए आपको सुपर 30 में चयन के लिए टॉप 30 में आना ज़रूरी है। सिलेक्शन होने के बाद कोचिंग की तरफ़ इन सभी 30 छात्रों की एक वर्ष की पढ़ाई, रहने और खाने की सुविधा फ़्री में दी जाती है।


सोशल मीडिया में शेयर करें

Leave a Reply


You cannot copy content of this page

error: Content is Protected by DMCA. आपकी गतिविधियों को हमारे एआई सिस्टम द्वारा ट्रैक किया जा रहा है। Your activities are being tracked by our AI System.