Skip to content
Home » Venus Facts in Hindi | शुक्र ग्रह के रोचक तथ्य

Venus Facts in Hindi | शुक्र ग्रह के रोचक तथ्य

    Venus Facts in Hindi : स्वागत है दोस्तों! आज हम इस पोस्ट में आपको शुक्र ग्रह (Venus Planet) के बारे में जानकारी देने के साथ शुक्र के रोचक तथ्यों (Interesting Facts About Venus) के बारे में बताएँ।

    शुक्र ग्रह (Venus Planet ) सूर्य से दूसरा ग्रह है। यह दूसरा सबसे बड़ा स्थलीय ग्रह भी है। शुक्र का आकार और द्रव्यमान लगभग पृथ्वी के बराबर ही है, इसीलिए इसको पृथ्वी का सिस्टर ग्रह भी कहा जाता है। शुक्र ग्रह का नाम प्रेम और सुंदरता की रोमन देवी के नाम पर रखा गया है।

    Venus Facts in Hindi
    Venus Facts in Hindi

    इस पोस्ट में आपको शुक्र ग्रह के बारे में आश्चर्यजनक तथ्यों (Amazing Facts About Venus) को जानने का मौक़ा मिलेगा। तो आइए शुरू करते हैं : शुक्र के बारे में दिमाग उड़ाने वाले तथ्यों (Mind Blowing Facts About Venus) के बारे में

    शुक्र ग्रह की जानकारी

    शुक्र ग्रह की जानकारी हिंदी में निम्नलिखित है (Information about Venus Planet in Hindi) :

    शुक्र ग्रह का व्यास12,104 किमी
    शुक्र ग्रह का द्रव्यमान4.87 × 10 ^ 24 किग्रा (पृथ्वी का 0.82)
    शुक्र ग्रह के चंद्रमाकोई नहीं
    कक्षा दूरी108,209,475 किमी (0.73 AU)
    कक्षा अवधि225 दिन
    सतह का तापमान462 ° C
    पहला रिकॉर्ड कब किया गया17 वीं शताब्दी ई.पू.
    शुक्र ग्रह के बारे में सबसे पहले रिकॉर्ड किसने कियाबेबीलोन के खगोलविदों द्वारा
    Information about Venus Planet in Hindi

    Venus Facts in Hindi | शुक्र ग्रह के रोचक तथ्य

    • शुक्र (Venus Planet) के पास अपना कोई चंद्रमा या रिंग नहीं है।
    • 12,104 किलोमीटर के व्यास के साथ शुक्र पृथ्वी जितना बड़ा है।
    • शुक्र ग्रह (Venus Planet) एक केंद्रीय लौह कोर, चट्टानी मैंटल और सिलिकेट क्रस्ट से बना है।
    • शुक्र ग्रह (Venus Planet) का एक सौर दिन यानी इसकी सतह पर एक दिन, पृथ्वी के 117 दिवस के बराबर होता है।
    • शुक्र का एक वर्ष, पृथ्वी के 225 दिन के बराबर होता है।
    • शुक्र ग्रह की सतह का अधिकतम तापमान 471°C तक हो सकता है।

    शुक्र के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य – Facts About Venus in Hindi

    • शुक्र पर एक दिन, एक वर्ष से अधिक समय तक रहता है : अपनी धुरी (साइडरियल डे) पर एक बार चक्कर लगाने में पृथ्वी के 243 दिन के बराबर लगते हैं। पृथ्वी के 365 दिनों की तुलना में सूर्य के चारों ओर शुक्र ग्रह अपनी कक्षा में परिक्रमा करने में 225 पृथ्वी दिन लेता हैं। शुक्र की सतह पर एक दिन (सौर दिन) में 117 पृथ्वी दिन के बराबर होते हैं।
    • शुक्र अधिकांश अन्य ग्रहों के विपरीत दिशा में घूमता है : इसका मतलब है कि शुक्र सूर्य के विपरीत दिशा में घूम रहा है, इसे प्रतिगामी घूर्णन के रूप में भी जाना जाता है। इसका एक संभावित कारण एक क्षुद्रग्रह या अन्य वस्तु के साथ टकराव हो सकता है।
    • रात के समय आकाश में शुक्र दूसरी सबसे चमकीली वस्तु है : केवल चंद्रमा ही चमकीला नही है। -3.8 से -4.6 के बीच की तीव्रता के साथ शुक्र इतना चमकीला होता है कि इसे दिन के दौरान भी स्पष्ट देखा जा सकता है।
    • शुक्र पर वायुमंडलीय दबाव पृथ्वी की तुलना में 92 गुना अधिक है : क्षुद्रग्रह जब शुक्र के वायुमंडल में प्रवेश करते हैं तो वो नष्ट हो जाते हैं, इसी वजह से शुक्र ग्रह (Venus Planet) में छोटे क्रेटर नहीं हैं। शुक्र की सतह पर महसूस किया गया दबाव पृथ्वी पर समुद्र के नीचे के गहरे हिस्से के बराबर है।
    • शुक्र को अक्सर पृथ्वी का सिस्टर ग्रह कहा जाता है : पृथ्वी और शुक्र आकार में केवल 638 किमी के अंतर के साथ बहुत समान हैं और शुक्र पृथ्वी के द्रव्यमान का 81.5% है। दोनों में एक केंद्रीय कोर, एक पिघला हुआ मेटल और एक क्रस्ट भी है।
    • शुक्र का केवल एक भाग पृथ्वी के ज़्यादातर सामने रहता है : शुक्र का केवल एक भाग पृथ्वी के हमेशा सामने रहता है, जो पृथ्वी के सबसे करीब होता है।यह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण प्रभाव के कारण हो सकता है।
    • शुक्र को मॉर्निंग स्टार और इवनिंग स्टार के रूप में भी जाना जाता है : प्रारंभिक सभ्यताओं ने सोचा था कि वीनस दो अलग-अलग स्टार हैं। यूनानियों द्वारा इन्हें फास्फोरस और हेस्पेरस कहा जाता था, और रोमियों द्वारा ल्यूसिफर और वेस्पर। जब सूर्य के चारों ओर शुक्र की कक्षा पृथ्वी की कक्षा से आगे निकल जाती है, तो यह सूर्यास्त के बाद दिखाई देने से बदल कर सूर्योदय से पहले दिखाई देने लगता है। माया खगोलविदों (Mayan Astronomers) ने 650 ईस्वी के प्रारंभ में शुक्र का विस्तृत अवलोकन किया था।
    • शुक्र हमारे सौरमंडल का सबसे गर्म ग्रह है : शुक्र ग्रह की सतह का औसत तापमान 462 डिग्री सेल्सियस होता है, और क्योंकि शुक्र अपनी धुरी पर झुकाव नहीं करता है, इसलिए इसमें कोई मौसमी भिन्नता नहीं है। इसके लगभग 96.5 प्रतिशत वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड होता है, जिससे यहाँ गर्मी होती है और यह ग्रीनहाउस प्रभाव का कारण बनता है।
    • 2015 में शुक्र का विस्तृत अध्ययन समाप्त हुआ : 2006 में, वीनस एक्सप्रेस अंतरिक्ष यान (Venus Express Space Craft ) को यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा शुक्र के चारों ओर की कक्षा में भेजा गया था। इसके लिए मूल रूप से पिछले पांच सौ पृथ्वी दिनों की योजना बनाई गई थी, 2015 में अंतरिक्ष यान को हटाने से पहले मिशन को कई बार बढ़ाया गया था। इस अध्ययन में शुक्र (Venus) की सतह पर 20 किमी से बड़े 1000 ज्वालामुखी या ज्वालामुखी केंद्र पाए गए हैं।
    • शुक्र ग्रह में पहला मिशन रूस ने भेजा था : वेनेरा 1 (Venera 1) अंतरिक्ष प्रोब 1961 में लॉंच किया गया था, लेकिन धरती के बेस से इसका संपर्क टूट गया था। संयुक्त राज्य अमेरिका ने भी शुक्र ग्रह (Venus Planet) के लिए भेजे गए अपने पहले प्रोब मेरिनर 1 को खो दिया था, हालांकि 1962 मेरिनर 2 शुक्र ग्रह तक पहुँचने और उसकी माप लेने में सक्षम हो पाया था। सोवियत संघ का वेनेरा 3 पहला मानव-निर्मित क्राफ़्ट था जो 1966 में शुक्र पर भेजा गया था।
    • एक समय यह सोचा गया था कि शुक्र पर उष्णकटिबंधीय स्वर्ग हो सकता है : शुक्र के आसपास के सल्फ्यूरिक एसिड के घने बादल इसकी सतह को उसके वायुमंडल के बाहर से देखना असंभव बनाते हैं। जब 1960 में रेडियो मैपिंग तकनीक विकसित की गई, तभी वैज्ञानिक शुक्र ग्रह (Venus Planet) के अत्यधिक तापमान और प्रतिकूल वातावरण का निरीक्षण करने में सक्षम हो पाए थे। इससे पहले वैज्ञानिक यही मानते थे कि शुक्र ग्रह पर Tropical Paradise (उष्णकटिबंधीय स्वर्ग) हो सकता है।